मत्स्य यूनिवर्सिटी : परीक्षा से पहले आया भूगोल का पेपर, 90% से ज्यादा प्रश्न हूबहू

0
397

 

अलवर। मत्स्य यूनिवर्सिटी में स्नातक स्तर की परीक्षाओं में गोपनीयता नहीं बरती जा रही है। शनिवार को भूगोल का सुबह 11 बजे होने वाला बीए पार्ट प्रथम का प्रथम पेपर सुबह करीब साढ़े नौ बजे ही परीक्षार्थियों के हाथों में गया। भास्कर ने पड़ताल की तो सामने आया कि इस बार यह पेपर प्रश्न पत्र की सूरत में होकर एक कागज पर सवालों के रूप में था। मूल पेपर में आए 90 फीसदी से ज्यादा सवाल बाजार में बिक रहे इस पेपर में हूबहू मिले।

सभी सवाल लगभग उसी क्रम से थे, जो मूल पेपर में मिले। हर बार की तरह यूनिवर्सिटी ने इस बार भी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए गैर जिम्मेदाराना जवाब दिया कि पेपर बाहर होने की कोई सूचना यूनिवर्सिटी के पास नहीं है और ही किसी ने दी। जबकि दैनिक भास्कर ने मत्स्य यूनिवर्सिटी के ईमेल पर यह पेपर 11 बजे से पहले ही भेज दिया था।

ताजा हालातों की बात करें तो यूनिवर्सिटी में आउट हो रहे पेपर के लिए कौन जिम्मेदार है इसका कोई धणी-धोरी नहीं है। कोई भी जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है कि आखिर इसका समाधान क्या है। कुछ दिनों पूर्व आउट हुए पेपर की जांच में भी यूनिवर्सिटी स्तर पर मैनेज करने का काम चल रहा है। अपने शुरुआती दौर में यूनिवर्सिटी के इस रवैये से छात्रों में आक्रोश की स्थिति है। पेपर आउट मामले में यूनिवर्सिटी किसी भी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई है।
अबतो कुलपति भी हैं, नया बहाना कैसे लाएं

परीक्षाओंमें गड़बड़ी पहले साल भी हुई थी, लेकिन तब यूनिवर्सिटी के अधिकारियों ने यह तर्क देते हुए बचने का प्रयास किया था कि निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र कुलपति नहीं है, आगामी सत्र में पूरी गोपनीयता और पारदर्शिता के साथ काम होगा। लगातार आउट हुए दूसरे पेपर और शुरुआत में आउट ऑफ सिलेबस आए पेपर ने कुलपति सहित पूरी टीम की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

^मेरे पास शनिवार के पेपर के आउट होने को लेकर कोई सूचना नहीं है। -सप्तेशकुमार, परीक्षा नियंत्रक मत्स्य यूनिवर्सिटी
अलवर. हाथ से लिखा पेपर जो मूल पेपर की कॉपी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here