मंत्री भड़ाना-पार्षद विवाद : ऑडियो वायरल होने के 24 घंटे बाद थाने पहुंचा विवाद, परिवार को खतरा

मंत्री भड़ाना-पार्षद विवाद : ऑडियो वायरल होने के 24 घंटे बाद थाने पहुंचा विवाद, परिवार को खतरा

शहर के कर्मचारी कॉलोनी में पानी की समस्या को लेकर गुरुवार को सामान्य प्रशाासन मंत्री एवं पार्षद के बीच हुए विवाद ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के 24 घंटे बाद थाने तक जा पहुंच गया। जलदाय विभाग के जेईएन ने पार्षद राजेश तिवाड़ी पर राज कार्य में बाधा डालने आरोप लगाया है, वहीं पार्षद ने भी पुलिस को परिवाद देकर खुद व परिवार की जान को खतरा बताया है।

 

दो दिनों तक विवाद सोशल मीडिया व चर्चाओं में रहने के बाद भी संबंधित क्षेत्र में मूल पानी की समस्या अब भी वहीं है।  जलदाय विभाग के जेईएन व पार्षद का विवाद शुक्रवार को दिन भर में चर्चा में रहा। जलदाय विभाग के जेईएन देशराज गुर्जर की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

वहीं संबंधित पार्षद ने पुलिस को दिए परिवाद में पार्षद ने कहा कि मंत्री व जेईएन की धमकी से उसका परिवार में भय समाया हुआ है। मामला सार्वजनिक होने के बाद सुबह 7.49 बजे किसी अनजान नंबर से आए फोन पर देख लेने की धमकी मिली है। स्वयं व परिवार को जान का खतरा बताया है।

पानी की समस्या ने जलदाय विभाग व प्रशासन का भी सुख चैन छिन गया है। गर्मी के चलते जलदाय कर्मियों की छुट्टियां तक निरस्त करनी पड़ रही हैं, वहीं कई कर्मचारी गंभीरता के साथ समस्या के निराकरण में भी जुटे हैं। लेकिन कुछ अधिकारी एेसे भी हैं जो कि समस्या के निराकरण के प्रति गंभीरता बतरने के बजाय  ऊंचे रसूख व रुतबा दिखा लोगों से उलझने में भी पीछे नहीं रहते।

इंजीनियर्स ने की गिरफ्तारी की मांग

राजस्थान कौंसिल ऑफ डिप्लोमा इंजीनियर्स ने जेईएन व पार्षद मामले की निंदा की है। संंगठन के जिलाध्यक्ष खेम ङ्क्षसह चौधरी ने कहा कि यदि वार्ड नम्बर 48 के पार्षद की तीन दिनों में गिरफ्तारी नहीं होने पर  अभियंताओं ने सर्व सम्मति से आंदोलन का निर्णय लिया है।

पुलिस अधीक्षक से मिलेंगे पदाधिकारी

युवा ब्राह्मण सभा परिवार की बैठक में शुक्रवार को पार्षद व जलदाय विभाग के जेईएन विवाद में राजनीतिक दबाव के चलते पार्षद के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की निंदा की गई। संगठन पदाधिकारी सोमवार को जिला पुलिस अधीक्षक से मिलने का निर्णय लिया है।

संगठन अध्यक्ष आकाश मिश्रा ने बताया घटना के दूसरे दिन एफ आईआर करवाना एक ओछी मानसिकता का परिचायक है। बैठक में शिवचरण कमल, रेवती शरण, नवनीत तिवाडी, तरुण शर्मा, अमित शर्मा, गौरव शर्मा, पंकज शर्मा, आशीष दीक्षित सहित बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद थे।

लोगों की जुबानी विवाद की कहानी

शुक्रवार को कर्मचारी कॉलोनी के सी ब्लॉक पहुंची। वहां लोगों का खास दर्द क्षेत्र में लम्बे समय से पानी की समस्या था। लोगों ने बताया कि पानी की समस्या के बारे में कई बार जलदाय विभाग के अधिकारियों को बताया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। गुरुवार को क्षेत्रीय पार्षद ने जेईएन को क्षेत्र में बुलाया तो उनका व्यवहार  रुखा था, तथा  रुतबे वाला दिखा।

वाया पत्रिका

अलवर ब्यूरो

अलवर ब्यूरो
Shares