पति के सामने पत्नी से गैंग रेप मामले में एसपी एपीओ, थानाधिकारी सस्पेंड

पति के सामने पत्नी से गैंग रेप मामले में एसपी एपीओ, थानाधिकारी सस्पेंड

अलवर. अलवर के थानागाजी इलाके में पति को बंधक बनाकर पत्नी से गैंग रेप और वीडियाे वायरल होने के मामले में एसपी राजीव पचार को एपीओ किया गया है। हालांकि, कार्मिक विभाग ने इसके पीछे प्रशासनिक कारण बताए हैं। मामले में लापरवाही बरतने काे लेकर थानागाजी थाने के प्रभारी सरदार सिंह को सस्पेंड किया गया है, जबकि एएसआई रूपनारायण, सिपाही राम रतन, महेश कुमार व राजेंद्र काे लाइन हाजिर किया गया है। थानागाजी थाने में 29 पुलिसकर्मियों का स्टाफ है।

डीजीपी ने भी मामले में मंगलवार को जयपुर में प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि थानागाजी थाने के सभी पुलिसकर्मियों की भूमिका की जांच होगी। इसके लिए टीम बनाई गई है। पांच आराेपियाें में से प्रयागपुरा निवासी 22 वर्षीय इन्द्रराज गुर्जर काे गिरफ्तार कर लिया गया। एक युवक मुकेश गुर्जर को वीडियो वायरल करने के मामले में पकड़ा है। अन्य नामजद आरोपी छोटेलाल, अशोक, महेश व हंसराज को पकड़ने के लिए अलवर, जयपुर ग्रामीण, दौसा जिलों के पुलिसकर्मियों की 14 टीमें लगाई गई हैं। सरकार ने पीड़िता को 4.12 लाख की आर्थिक सहायता दी है।

बता दें कि वारदात 26 अप्रैल को हुई, लेकिन पुलिस ने चुनाव के कारण इसे दबाए रखा। भास्कर ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते हुए मंगलवार काे प्रमुखता से खबर प्रकाशित की थी। पति व पत्नी गांव लालवाड़ी से तालवृक्ष जा रहे थे। थानागाजी-अलवर बाईपास रोड पर दुहार चौगान वाले रास्ते में 5 युवकों ने उन्हें रोका और पति काे बंधक बनाकर मारपीट की व पत्नी से गैंग रेप कर वीडियाे बना लिया।

पीड़ित पति-पत्नी 30 अप्रैल काे अलवर एसपी के पास पहुंचे थे। इसके बाद थानागाजी पुलिस थाने में 2 मई काे मामला दर्ज किया गया। वीडियो वायरल होने पर घटना 6 मई को सार्वजनिक हुई। आईजी सेंगाथिर ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी इन्द्रराज ट्रक ड्राइवर है। वह 26 अप्रैल को थानागाजी स्थित अपने ससुराल आया था। यहां अपने साथी छोटेलाल, अशोक, महेश व हंसराज से मिला। तभी उनकी नजर बाइक पर जा रहे दंपती पर पड़ गई। उसके बाद उन्होंने अन्य साथियों को भी वहां बुला लिया और दंपती का पीछा शुरू कर दिया। पांचों ने मिलकर दंपती को रोका और वारदात को अंजाम दिया। फरार आरोपियों में दो नारायणपुर, दो थानागाजी व एक बानसूर का रहने वाला है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आरोपियों ने पीड़ित दंपती से वीडियो वायरल करने की धमकी देकर पैसे भी वसूल लिए। इस बीच, आरोपियों ने फिर पैसों की डिमांड की तो परेशान दंपती पुलिस तक पहुंचे।

5 आरोपी, 14 पुलिस टीमें, 10 दिन बाद भी सिर्फ 1 आरोपी गिरफ्तार

पति के सामने पत्नी से गैंग रेप के मामले को पहले तो पुलिस ने दबाए रखा। अब वारदात को 10 दिन हो गए। लेकिन आरोपी सिर्फ एक पकड़ा है, चार अभी फरार हैं। इनकी तलाश में दौसा, जयपुर, अलवर के पुलिसकर्मियों की 14 टीमें जुटी हुई हैं।

अब बता रहे, भर्तृहरि में भी तीन दिन पहले युवती से गैंग रेप हुआ

थानागाजी पुलिस ने भर्तृहरि में 27 अप्रैल को हुए सामूहिक दुष्कर्म मामले का अब मंगलवार को खुलासा किया। कहा-भर्तृहरि बाबा के दर्शन को गई युवती का अपहरण कर गैंग रेप हुआ। इस संबंध में 4 मई काे केस दर्ज हो चुका है।

घटना दुर्भाग्यपूर्ण, महिला सुरक्षा के लिए सरकार प्रतिबद्ध : गहलोत 
मुख्यमंत्री ने मामले की कड़ी निंदा करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि पुलिस द्वारा किसी भी स्तर पर लापरवाही या अनियमितता पाए जाने पर सख्त कार्यवाही होगी। महिला सुरक्षा के प्रति सरकार पूर्णतया प्रतिबद्ध है।

दुष्कर्म की यह घटना राजस्थान के लिए बेहद शर्मनाक : वसुंधरा

पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने भास्कर की खबर को रिट्वीट करते हुए लिखा- सामूहिक दुष्कर्म की यह घटना प्रदेश के लिए बेहद शर्मनाक है। ऐसे जघन्य अपराध कांग्रेस सरकार के महिला व बेटियों को सुरक्षित माहौल देने के दावों की पोल खोल रहे हैं।

अलवर ब्यूरो

अलवर ब्यूरो
Shares