एक बार चार्ज में 900 किलोमीटर चलती है ये कार, केतली को गर्म करने जितनी लेती है पावर

एक बार चार्ज में 900 किलोमीटर चलती है ये कार, केतली को गर्म करने जितनी लेती है पावर

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स ने एक ऐसी इलेक्ट्रिक कार बनाई है, जो कि अल्ट्रा-एफिशिएंट (बेहद किफायती) है और इसे चलाने के लिए सिर्फ उतनी ही पावर लगती है, जितनी की किसी केतली को गर्म करने में लगती है. इस 4-सीटर कार को क्रैम्ब्रिज यूनिर्सिटी इको रेसिंग (CUER) स्टूडेंट सोसायटी ने बनाया है और इसे ‘Helia’ नाम दिया है.

टेस्ला से दोगुनी है रेंज
डेली मेल की खबर के मुताबिक, ये कार एक बार फुल चार्ज होने पर 900 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है और इसकी टॉप स्पीड करीब 120 किलोमीटर प्रति घंटा है. वहीं हेलिया चार पैसेंजर के साथ 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार में आराम से क्रूज करती है और इसके लिए ये सिर्फ किसी केतली को गर्म करने जितनी पावर ही लेती है. साथ ही रेंज के मामले के ये कार Tesla 3 से दोगुनी है.

वजन में बेहद हल्की

इस इलेक्ट्रिक की शानदार रेंज की एक बड़ी वजह इसकी चेसिस और बॉडी पैनल है, जो कि कार्बन फाइबर से बने है. ये कार काफी हल्की है और इसका वजन 550 किलोग्राम है. हेलिया को बनाने वाली इको रेसिंग टीम में 20 अंडरग्रेजुएट स्टूडेंट्स और प्रोग्राम डायरेक्टर जियोफैन जैंग शामिल हैं. Helia कन्वेंशनल ईवी चार्जर से चार्ज होती है, लेकिन ये कार इसकी रूफ पर लगे सोलर सेल्स की मदद से भी चार्ज हो सकती है.

3000 किलोमीटर की रेस में भी हुई थी शामिल
क्रैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स की टीम को इस कार को बनाने में करीब दो साल का समय लगा है. Helia इलेक्ट्रिक कार को अगस्त, 2019 में लंदन के साइंस म्यूजियम में पहली बार पेश किया गया था. हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में हुए Bridgestone World Solar Challenge में CUER ने हेलिया को भी उतारा था. 3000 किलोमीटर की इस रेस से हेलिया को दूसरे दिन ही बाहर होना पड़ा था, क्योंकि कठिन ग्राउंड कंडीशंस के कारण इसकी बैटरी को नुकसान पहुंचा था. लेकिन इसके बावजूद कैम्ब्रिज की टीम को तीसरा स्थान मिला था.

अलवर ब्यूरो

अलवर ब्यूरो
Shares