राजस्थान ने प्लाज्मा थेरेपी से इलाज करने को रक्त के नमूने लिए, ICMR से अनुमति का इंतजार

राजस्थान ने प्लाज्मा थेरेपी से इलाज करने को रक्त के नमूने लिए, ICMR से अनुमति का इंतजार

 

कोविड-19 संक्रमण के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी के कारगर सिद्ध होने के समाचारों के बीच राजस्थान सरकार ने इस थेरेपी से उपचार कराने की तैयारी कर ली है. उसे अब सिर्फ भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद से अनुमति मिलने का इंतजार है. राज्य के चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने शनिवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज के लिए राज्य में प्लाज्मा थेरेपी की तैयारी पूरी कर ली गई है. उन्होंने कहा, ‘चिकित्सकों की टीम इसके लिए पूरी तरह तैयार है और सरकार ने अनुमति के लिए आईसीएमआर को लिखा है. अनुमति मिलते ही प्रदेश में (कोविड-19 के लिए) प्लाज्मा थेरेपी शुरू कर दी जाएगी.’

प्लाज्मा चढ़ाने को संक्रमण मुक्त मरीजों के रक्त के नमूने लिए
डॉ. शर्मा ने बताया कि प्लाज्मा चढ़ाने के लिए चिकित्सकों की टीम ने कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त हुए मरीजों के रक्त के नमूने ले लिए हैं. उन्होंने बताया कि संक्रमण मुक्त हुए व्यक्ति का प्लाज्मा लेकर गंभीर या स्टेज-टू के मरीजों का इलाज किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि आईसीएमआर की अनुमति मिलने के साथ ही सरकार लोगों का इस तरीके से इलाज शुरू कर देगी.

देश में सर्वाधिक 79 हजार जांच राजस्थान में की गई
उन्होंने बताया कि शनिवार दोपहर तक प्रदेश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 2,061 हो गई है. इनमें से 493 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं, जिनमें से 198 को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है. उन्होंने बताया कि देश में सर्वाधिक लगभग 79 हजार जांच राजस्थान में हुई हैं. मंत्री ने कहा कि सरकार वैज्ञानिक तरीके से काम कर रही है. राज्य में जहां भी हॉटस्पॉट बने, वहां सरकार ने वैज्ञानिक तरीके से काम करते हुए बढ़ते संक्रमण को रोकने की कोशिश की है. राज्य में पिछले सात दिन में संक्रमण का खतरा कम हुआ है.

 

अलवर ब्यूरो

अलवर ब्यूरो