Kishangarh bas: गौणे में कर दी बाइक की डिमांड, दूल्हे सहित 30 को बनाया बंधक

Kishangarh bas: गौणे में कर दी बाइक की डिमांड, दूल्हे सहित 30 को बनाया बंधक

Kishangarh bas: किशनगढ़बास क्षेत्र के मिर्जापुर गांव में मंगलवार को फिल्मी स्टाइल में पीहर पक्ष के लोगों ने दूल्हे सहित 30 लोगों को बंधक बना लिया। मामले की जानकारी मिलने के बाद 3 थानों की पुलिस मौके पर पहुंची और अगवा किए लोगों को मशक्कत के बाद छुड़ाया। पीहर पक्ष के लोगों ने गौणा के लिए आए 30 लोगों को घेरकर बंधक बना लिया। बताया जा रहा है कि लुहादेरा तिजारा निवासी जुनैद की शादी 2018 में हुई थी और वह मंगलवार को अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ गौणे के लिए मिर्जापुर पहुंचा था लेकिन खाना खाने के बाद जब दूल्हा दुल्हन को बिना लिए वहां से जाने लगा तो पीहर पक्ष के लोगों ने दूल्हे सहित करीब 30 लोगों को बंधक बना लिया। बताया जा रहा है कि गौणे में दूल्हे ने ऐनवक्त पर बाइक की मांग कर दी जिसे पूरी न करने पर वह दुल्हन को ले जाने से मना कर भाग रहा था।

क्या मामला हुआ

पुलिस के मुताबिक किशनगढ़बास के गांव मिर्जापुर में मंगलवार को गौणे के बाद नव विवाहिता को साथ नहीं ले जाने पर पीहर पक्ष के लोगों ने पति सहित करीब 30 लोगों को बंधक बनाकर जंगल में बिठा दिया। जिसकी सूचना पर किशनगढ़बास, कोटकासिम और खैरथल थाने की पुलिस पहुंची और रात भर बंधकों को तलाशती रही। इनमें कुछ लोगों को तो कुछ घंटे बाद ही मुक्त करा लिया गया, लेकिन विवाहिता के पति और उसके दो रिश्तेदारों को करीब 24 घंटे बाद मुक्त कराया जा सका। आरोपी फरार हो गए।

घटना के संबंध में गांव लुहादेरा शेखपुर निवासी इमरान खान ने मुकदमा दर्ज कराया कि उसके चचेरे भाई वसीम अकरम व जुनैद की शादी 2018 में गांव मिर्जापुर निवासी असलूप पुत्री सजीदा व रुखसाना के साथ हुई थी। साजिदा का गौणा उसी वक्त हो गया था। जबकि रुखसाना उर्फ रुकी का गौणा कराने ससुराल से पति जुनैद पुत्र इसराइल, वसीम अकरम सहित करीब 30 लोग गांव मिर्जापुर पहुंचे।

रस्म पूरी होने के बाद शाम को वापसी की तैयारी चल रही थी। वसीम अकरम गाड़ी में बैठा था। इसी दौरान पीहर पक्ष के असलम खान ने शोर मचा दिया कि वसीम अकरम विवाहिताओं को लेकर नहीं जा रहा है। वहां से भाग रहा है। यह सुनते ही असलम और उसके परिवार के लोगों ने गौणे के लिए आए दूल्हे को घेर लिया। गाड़ियों की चाबियां छीनकर असलम के घर के अंदर खड़ी कर दी। और बंधक बना लिया। बंधक बनाकर ये लोग अपने साथ ले गए। पुलिस ने अपहरण और मारपीट का मामला दर्ज किया है।

ससुराल वालों  ने की 10 लाख की मांग

पीड़ित परिवार ने पुलिस को बताया कि जाते हुए आरोपी कह रहे थे कि इनको छुड़ाना है तो अपन घर से शादी के खर्च के 10 लाख रुपए मंगवा लो। तभी इन तीनों को छोड़ेंगे। नहीं तो तीनों को जान से मार देंगे। घटना की सूचना पर खैरथल, किशनगढ़बास व कोटकासिम पुलिस मिर्जापुर पहुंची। इस दौरान शिकायकर्ता इमरान व अन्य लोगों को तो असलम के घर से मुक्त करा लिया, लेकिन जुनैद, वसीम और उसका पिता वहां नहीं मिले। आरोपी घरों से भाग चुके थे। पुलिस टीमें रात भर उनकी तलाश करती रहीं। डीएसपी अतुल अग्रे व थानाधिकारी गौरव प्रधान ने बताया कि बुधवार शाम तीनों बंधक मिर्जापुर के जंगलों में मिल गए। वहां से उन्हें मुक्त कराया गया है। एडिशनल एसपी गुरुशरण राव भी देर शाम किशनगढ़बास पुलिस थाने पहुंचे।

LALIT YADAV

ललित यादव  'The Alwar News' से जुड़े हैं। ऑनलाइन पत्रकारिता में काम करने का पांच वर्ष का अनुभव है। दिल्ली के कई मीडिया संस्थान में काम कर चुके हैं।
Shares