अलवर की लड़की ने पीएम मोदी और मुख्यमंत्री से क्यों लगाई शादी रुकवाने की गुहार

अलवर की लड़की ने पीएम मोदी और मुख्यमंत्री से क्यों लगाई शादी रुकवाने की गुहार

अलवर जिले के मुंडावर क्षेत्र के हरसौरा थाना क्षेत्र के अंतर्गत चुड़ला गांव निवासी बीएससी की पढ़ाई करने वाली 22 वर्षीय छात्रा रीना सिंह गुर्जर का सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में छात्रा अपनी मर्जी के खिलाफ परिजनों के द्वारा की जा रही शादी को रुकवाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ राजस्‍थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट से गुहार लगा रही है. जबकि एडीएम प्रथम (अलवर) रामचरण शर्मा ने कहा कि ऐसा मामला संज्ञान में आया है और पुलिस ने अपना काम बखूबी किया है.

वीडियो में लड़की ने कही ये बात
अलवर जिले के मुंडावर उपखंड क्षेत्र के गांव चुड़ला निवासी रीना सिंह गुर्जर का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जयपुर में परिवार के साथ रहने वाली युवती ने वीडियो में कहा कि मेरी मम्मी मुझे झूठ बोलकर गांव लेकर आई और यहां पर 20 मई को मेरी सगाई कर दी. जबकि यह सगाई मेरी मर्जी के खिलाफ थी और 1 जुलाई को शादी तय कर दी गई. इस मामले में परिवारजनों ने मेरी कोई सहमति नहीं ली. मर्जी के खिलाफ हो रही इस शादी से वह पूरी तरीके से असंतुष्ट हैं. यह नहीं लड़का कौन है, मुझे नहीं दिखाया गया. वह क्या करता है, यह भी नहीं बताया गया. साथ ही उसने कहा कि जब तक मेरी और छोटी बहन की जॉब नहीं लगेगी जब तक मैं शादी नहीं करूंगी. वहीं बहन की शादी भी नहीं करने दूंगी, क्योंकि वह छोटी और उसकी लाइफ भी पढ़ाई के अभाव में खराब हो रही है.

युवती ने वीडियो में कहा कि जहां उसकी शादी की जा रही है वहां लड़कियों को किसी भी तरीके के अधिकार नहीं हैं. खुले में शौच जाती हैं और शिक्षा का कोई स्तर नहीं है. उसने कहा कि वह चोरी-छिपे इस वीडियो को बना रही हैं और जिस दिन इसका पता लगेगा उस दिन हो सकता है कि परिवारजन उसके साथ मारपीट करें और बंदी बनाकर रख लें. युवती धौलपुर के एक पुलिस थाने में कार्यरत सब इंस्पेक्टर बने सिंह की बेटी है. वहीं, वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासनिक अमले में हड़कंप मचा हुआ है.

वीडियो वायरल के बाद पुलिस पहुंची घर
जबकि वीडियो वायरल होने के बाद हरसौरा पुलिस युवती के घर पहुंची और परिजनों को शादी नहीं करने के लिए पाबंद किया है. आपको बता दें कि अलवर जिले की निवासी एक 22 वर्षीय युवती ने 1 जुलाई को होने वाली अपनी शादी रुकवाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के नाम संबोधन करते हुए एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी किया और इस वीडियो के जारी होते ही प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया. इसके बाद पुलिस प्रशासन युवती के घर पहुंचा और वहां परिवार जनों को पाबंद कर उसकी शादी को निरस्त करा दी है.

बहरहाल, हरसोरा पुलिस थाने के सब इंस्पेक्टर सत्यनारायण ने बताया कि पुलिस कंट्रोल रूम से उनके पास सूचना आई थी. जबकि सूचना के बाद वह गांव पहुंचे और वहां जानकारी ली तो युवती के पिता धौलपुर के एक थाने में सब इंस्पेक्टर हैं. वहीं, गांव में युवती के दादा, चाचा और मां मिली. साथ ही कहा कि युवती के पिता से भी फोन पर बात की और फिर सबकी सहमति से शादी को निरस्त करवा दिया गया है. यही नहीं, यह पूरा मामला परिवारजनों से लिखित में ले लिया गया है कि 1 जुलाई को होने वाली शादी निरस्त कर दी गई है. सब इंस्पेक्टर सत्यनारायण युवती बीएससी पढ़ी हुई है और वह प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही है. यह पूरा परिवार जयपुर में ही रहता है. वहीं, सब शादी के लिए ही 5 दिन पहले अपने गांव आए हैं और लड़का भी पास के गांव धोकड़ी का रहने वाला बताया गया है. उन्‍होंने यह भी बताया कि युवती ने सबसे पहले यह वीडियो बनाकर किसी एनजीओ से शादी रुकवाने की गुहार लगाई थी.

LALIT YADAV

ललित यादव  'The Alwar News' से जुड़े हैं। ऑनलाइन पत्रकारिता में काम करने का पांच वर्ष का अनुभव है। दिल्ली के कई मीडिया संस्थान में काम कर चुके हैं।
Shares