अलवर में हुआ बड़ा घोटाला, 2 CMHO के खिलाफ मामला दर्ज

अलवर में हुआ बड़ा घोटाला, 2 CMHO के खिलाफ मामला दर्ज

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने अलवर के स्वास्थ्य विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ तत्कालीन दो सीएमएचओ डॉ. सीपी वधवा और सीएमएचओ डॉ. कीर्ति माथुर के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। एक पर दवा खरीदने व दूसरे पर प्रचार प्रसार में गड़बड़ी करने का मामला सामने आया है। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के उपाधीक्षक सलेह मोहम्मद ने बताया कि एसीबी ने परिवाद की जांच करते हुए तत्कालीन सीएमएचओ डॉ. वधवा के खिलाफ नरेगा में दवाई खरीद में भ्रष्टाचार के मामले में मुकदमा दर्ज किया है। डॉ. वधवा पर मेवात विकास योजना और नरेगा में दवा खरीद में घोटाला करने का खुलासा हुआ है। एसीबी जांच में सामने आया है कि डॉ. वधवा ने बिना टेंडर जारी किए बड़े पैमाने पर ज्यादा रेट पर सरकारी राशि से दवाइयां खरीदी थी।

एसीबी मुख्यालय में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। दूसरी तरफ पूर्व सीएमएचओ डॉ. कीर्ति माथुर पर एनआरएचएम योजना में भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज किया गया है। सलेह मोहम्मद ने बताया कि माथुर पर पल्स पोलिया में प्रचार प्रसार का सामान खरीदने में गड़बड़ी व राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य योजना में भ्रष्टाचार का आरोप है। एनआरएचएम योजना के तहत कठपुतली के लिए टेंडर आमंत्रित किए जाने थे। लेकिन माथुर ने बिना निविदा जारी किए कठपुतली योजना के बिल पास कर दिए।



एसीबी जांच में खुलासा हुआ है कि डॉ. माथुर ने फर्जी बिलों के जरिए भी कठपुतली योजना में फर्जी बिलों से भुगतान उठाकर घोटाला किया है। पूरे मामले की साल 2009-10 में ऑडिट हुई थी। उसके बाद साल 2011 में एसीबी की तरफ से एक प्राथमिक जांच की गई। उसमें दोनों सीएमएचओ दोषी मिले। इसलिए दोनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

इनके खिलाफ भी दर्ज हुआ था मामला – 12 अप्रैल 2017 को एसीबी ने स्वास्थ्य विभाग के डीपीएम को डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए पकड़ा था। डीपीएम ने पूछताछ में सीएमएचओ व उसके भाई के कहने पर रिश्वत के पैसे लेने की बात स्वीकारी। इस पर एसीबी ने डॉ. पंकज व उसके भाई अमित के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। कई दिनों तक दोनों फरार चलते रहे। बाद में एसीबी ने पिछले दिनों ही आरोपित सीएमएचओ के भाई अमित को गिरफ्तार कर लिया था।

अब तक भगोड़ा घोषित नहीं – पांच माह से आरोपित डॉ. पंकज एसीबी की गिरफ्त से दूर है, लेकिन अब तक उसे भगोड़ा घोषित नहीं किया गया है। यह हालत तो तब है जब स्वास्थ्य विभाग, पुलिस व एसीबी को उसकी कोई खबर नहीं है। (सोर्स- पत्रिका न्यूज)

LALIT YADAV

ललित यादव  'The Alwar News' से जुड़े हैं। ऑनलाइन पत्रकारिता में काम करने का पांच वर्ष का अनुभव है। दिल्ली के कई मीडिया संस्थान में काम कर चुके हैं।
Shares